ALL मध्य प्रदेश देश विदेश भोपाल खेल लाइफस्टाइल बाजार क्राइम मनोरंजन साहित्य
खेत खेत दौड़ रहे हैं कंप्यूटर बाबा और मन्त्री 
January 30, 2020 • ABHISHEK SHARMA • मध्य प्रदेश
Apna Lakahya News
 
  
शहडोल मे दो महीने पहले भी दौरे के दौरान कंप्यूटर बाबा आए थे शहडोल हाथ नहीं लगा था कुछ भी
चार दिन पहले ही प्रभारी मंत्री और शहडोल कलेक्टर ललित कुमार दाहिमा सभी रेत खदान बंद कराई थी
लगातार शहडोल प्रशासन की कार्यवाही से पहले ही माफियाओं के हौसले पस्त हैं
फिर भी कंप्यूटर बाबा अपनी लोकप्रियता को बढ़ाने के लिए लगातार शहडोल में आकर पुरानी खराब पड़ी हुई मशीनों को निशाना बना रहे हैं और उनके साथ फोटो खिंचवा रहे हैं
 सूत्रों की माने तो कंप्यूटर बाबा लगातार माफियाओं पर दबाव बनाकर दूसरे रास्ते से वसूली का भी काम कर रहे हैं उस पर उनके कुछ चेला माहिर है* और इसीलिए शहडोल में नदियों में कुछ नहीं मिला तो खराब पड़ी पुरानी मशीनों के साथ खड़े होकर फोटो खिंचवा रहे हैं
 बाबा को तो जिस तरफ देखना है उस तरफ देख नहीं रहा है वह इस ओर देख रहा है कि सभी लोग काम उधर अवैध उत्खनन का करते रहें और इधर कंप्यूटर बाबा लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए शहडोल का दौरा कर रहे हैं क्योंकि भोपाल के आसपास होशंगाबाद सीहोर और विदिशा में जमकर अवैध उत्खनन, हो रहा है और वहां से मोटी रकम बाबा के जेब में आ रही है अब बाबा  जेब गर्म तो कर ही रहे हैं और मीडिया का ध्यान आकर्षण करने के लिए शहडोल सीधी रीवा सिंगरौली क्षेत्रों में दौरा कर रहे हैं जहां पर अवैध उत्खनन को तो प्रशासन ने पहले ही बंद करा दिया है पर कंप्यूटर बाबा अपने आप को सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए नदी नाले और खेत खलिहान में घूम रहे हैं, खराब पड़ी हुई मशीनों के साथ फोटो खिंचवा रहे हैं,,
आज से 2 महीने पहले भी कंप्यूटर बाबा ने शहडोल का दौरा किया था और नदी नालों पर घूम घूमकर निगरानी की थी उस समय भी प्रशासन की कारवाही को कंप्यूटर  बाबा ने सराहा था और कहा था कि यहां पर अवैध उत्खनन नहीं हो रहा है लेकिन कंप्यूटर बाबा को कहीं ना कहीं इस बात की चिंता भी हो रही थी कि मेरी लोकप्रियता इस क्षेत्र में नहीं हो रही है इसीलिए फिर कंप्यूटर बाबा ने दौरा किया और खराब पड़ी मशीन के साथ फोटो खींचवाए और उस पर कार्यवाही करने के लिए प्रशासन पर दबाव बना रहे हैं कंप्यूटर बाबा ने जिस तरह शासन से लड़कर और दबाव बनाकर नर्मदा नदी बचाओ न्यास का गठन करवाया और उसके अध्यक्ष बन बैठे हैं उसी तरह वह प्रशासन पर बैठकर उससे काम करने का दबाव बना रहे हैं
बड़ी बात तो यह है कि कुछ दिन पहले ही प्रभारी मंत्री और शहडोल जिले के लोकप्रिय कलेक्टर ललित कुमार दाहिमा ने सभी खदान बंद करने के आदेश दिए थे लेकिन कहीं ना कहीं कंप्यूटर बाबा को यह बात अच्छी नहीं.. इसलिए 
कंप्यूटर बाबा बिना प्रशासन को बताएं खदानों में घूमने लग गए और अपनी 
लोकप्रियता बढ़ाने और शासन और मंत्री को दबाने के लिए स्वयं बंद पड़ी मशीन से फोटो खिंचवाने लग गए यह भी सवाल उठता है कि कंप्यूटर बाबा कहीं ना कहीं सरकार में बैठे उन मंत्री और अधिकारियों को श्रेय लेने देना नहीं चाहते कंप्यूटर बाबा को जब नदी में कुछ नहीं मिला तो वह गांव के कोने में गए जहां पर 4 महीने की खराब पड़ी मशीन को  कंप्यूटर बाबा ने सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए खराब मशीन को बता दिए अवैध उत्खनन की मशीन ,मशीन जो कि 4 महीने पहले खराब हो गई थी उसके साथ फोटो खींचा कर यह कह दिया कि इससे रेत का अवैध उत्खनन किया जा रहा था लेकिन यह भी कहा कि अभी तो नहीं हो रहा था कहीं से ऐसा पता नहीं चल रहा सवाल यह खड़ा होता है कि सस्ती लोकप्रियता के लिए कंप्यूटर बाबा अपनी राजनीति को चमकाने के लिए घर में खड़ी हुई मशीन को और बिगड़ी हुई मशीन को अवैध उत्खनन के कार्य में लगी हुई मशीन बताते हैं और यह भी कह देते हैं कि हम नदियों के संरक्षण की बात करते हैं ना कि अवैध उत्खनन को रोकने की.....